Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2023 · 1 min read

*वसंत 【कुंडलिया】*

वसंत 【कुंडलिया】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
फुदकी छोटी गिलहरी ,चुहिया दौड़ी तेज
मस्ती सबकी देह में , दी वसंत ने भेज
दी वसंत ने भेज ,दिखी चिड़िया मुस्काती
दिखी मनुज की श्वास ,मुदित गीतों को गाती
कहते रवि कविराय ,आ गई ऊष्मा खुद की
अंग – अंग आह्लाद ,देह लगता ज्यों फुदकी
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अलगौझा
अलगौझा
भवानी सिंह धानका "भूधर"
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
"सलाह"
Dr. Kishan tandon kranti
फिर सुखद संसार होगा...
फिर सुखद संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*चटकू मटकू (बाल कविता)*
*चटकू मटकू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
झूठे से प्रेम नहीं,
झूठे से प्रेम नहीं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
कोशिशें हमने करके देखी हैं
कोशिशें हमने करके देखी हैं
Dr fauzia Naseem shad
Who am I?
Who am I?
Sridevi Sridhar
रामनवमी
रामनवमी
Ram Krishan Rastogi
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
आप जरा सा समझिए साहब
आप जरा सा समझिए साहब
शेखर सिंह
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
2634.पूर्णिका
2634.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
Nothing you love is lost. Not really. Things, people—they al
पूर्वार्थ
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
gurudeenverma198
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
Loading...