Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

वसंत की बहार।

वसंत की बहार।

डूबी धरित्री रंग में
उमंग अंग-अंग में,
सुरम्य हर दिशा
अपूर्व रूप,यह सिंगार।
वसंत की बहार।

हरित बदन का चीर है
चमन-चमन अधीर है,
अमंद झूमते सुमन
कली-कली निखार।
वसंत की बहार।

नवीन कोपलें – तना
विटप विहँस उठा घना,
प्रफुल्ल मालिनी रही
है बौर को निहार।
वसंत की बहार।

विहग मगन चहक रहे
भ्रमर उड़े बहक रहे,
खिले कुमुद, निसर्ग का
निमग्न तार-तार।
वसंत की बहार।

कृषक सहर्ष झूमते
नई फसल को चूमते,
समग्र क्यारियों में
बालियाँ झुकीं अपार।
वसंत की बहार।

अनिल मिश्र प्रहरी ।

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
पावस
पावस
लक्ष्मी सिंह
उस पथ पर ले चलो।
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
Vindhya Prakash Mishra
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
जिंदगी का चमत्कार,जिंदगी भर किया इंतजार,
जिंदगी का चमत्कार,जिंदगी भर किया इंतजार,
पूर्वार्थ
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/243. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"डगर"
Dr. Kishan tandon kranti
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
वो इबादत
वो इबादत
Dr fauzia Naseem shad
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*Author प्रणय प्रभात*
व्यक्तिगत न्याय
व्यक्तिगत न्याय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हरिगीतिका छंद
हरिगीतिका छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
बचपन
बचपन
Vivek saswat Shukla
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
“एक नई सुबह आयेगी”
“एक नई सुबह आयेगी”
पंकज कुमार कर्ण
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
चोट
चोट
आकांक्षा राय
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...