Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2017 · 1 min read

वसंत का स्पर्श

वसंत का स्पर्श
अब आनंद नहीं है
आदमी की आँखों में ।
‘जले पर छिड़का
गया नमक है ।’
कोई आशा बाकी नहीं है
आदमी के भीतर
सोये आदमी के जगने की ।
बेशक !
जिस गति से
बढ़ रही है
यह दुनियाँ आगे-आगे
उसी रफ़्तार से
जा रहा है
आदमी पीछे-पीछे ।
यकीन है कि –
भविष्य की दुनियाँ में
सब-कुछ होगा
सारा साज़-ओ-सामान
होगा ऐश्वर्य का ।
किन्तु उसमें नहीं होगा
आदमी और
आदमियत का आनंद ।
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कवि एवं शिक्षक ।

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 1240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"देखना हो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
किसी भी हाल में ये दिलक़शी नहीं होगी,,,,
Shweta Soni
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
" आज भी है "
Aarti sirsat
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
हे पैमाना पुराना
हे पैमाना पुराना
Swami Ganganiya
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
Monika Arora
अगर कोई लक्ष्य पाना चाहते हो तो
अगर कोई लक्ष्य पाना चाहते हो तो
Sonam Puneet Dubey
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
■ तय मानिए...
■ तय मानिए...
*प्रणय प्रभात*
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
पूर्वार्थ
कोई किसी का कहां हुआ है
कोई किसी का कहां हुआ है
Dr fauzia Naseem shad
शब्द
शब्द
Dr. Mahesh Kumawat
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
3479🌷 *पूर्णिका* 🌷
3479🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक...
मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
नीली बदरिया में चांद निकलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रेम
प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...