Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।

वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
सकल चराचर जगत की, बुझती इससे प्यास।।

पानी बिन जीवन नहीं, वर्षा जल की खान।
बूँद-बूँद संग्रह करो, इसका अमृत जान।।

© सीमा अग्रवाल

Language: Hindi
2 Likes · 414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
पश्चिम का सूरज
पश्चिम का सूरज
डॉ० रोहित कौशिक
3377⚘ *पूर्णिका* ⚘
3377⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
एक दोहा दो रूप
एक दोहा दो रूप
Suryakant Dwivedi
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
थक गया दिल
थक गया दिल
Dr fauzia Naseem shad
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
Rituraj shivem verma
जय शिव शंकर ।
जय शिव शंकर ।
Anil Mishra Prahari
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
वह स्त्री / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उन्हें हद पसन्द थीं
उन्हें हद पसन्द थीं
हिमांशु Kulshrestha
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
धानी चूनर
धानी चूनर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
surenderpal vaidya
गुरूर  ना  करो  ऐ  साहिब
गुरूर ना करो ऐ साहिब
Neelofar Khan
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
जमात
जमात
AJAY AMITABH SUMAN
*
*"मजदूर"*
Shashi kala vyas
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
*हल्द्वानी का प्रसिद्ध बाबा लटूरिया आश्रम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रोबोटयुगीन मनुष्य
रोबोटयुगीन मनुष्य
SURYA PRAKASH SHARMA
उस रिश्ते की उम्र लंबी होती है,
उस रिश्ते की उम्र लंबी होती है,
शेखर सिंह
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
Loading...