Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

* वर्षा ऋतु *

** मुक्तक **
~~
रिमझिम बारिशों का क्रम लिए सावन चला आया।
मेघों से भरा नभ खूब सब के मन को है भाया।
बहुत उत्सुक हुआ है मन मिलन की चाहतें लेकर।
मौसम का मधुर उन्माद मन मस्तिष्क पर छाया।
~~
जरा नजरें उठाकर आसमां की ओर देखो तुम।
घने बादल बहुत छाए घटा घनघोर देखो तुम।
मचलने दो शरारत से भरे मन के विचारों को।
छुपे दिल के किसी कोने में प्रिय चितचोर देखो तुम।
~~
रिमझिम बौछारें लेकर अब सावन आया है।
शिव पूजन का भाव लिए अति पावन आया है।
जिनका शीश जटाओं से शोभित है महिमामय।
धारण कर गंगा सिर पर मनभावन आया है।
~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
3236.*पूर्णिका*
3236.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
Er. Sanjay Shrivastava
*पिताजी को मुंडी लिपि आती थी*
*पिताजी को मुंडी लिपि आती थी*
Ravi Prakash
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
*Author प्रणय प्रभात*
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वो इश्क को हंसी मे
वो इश्क को हंसी मे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जीवन का एक चरण
जीवन का एक चरण
पूर्वार्थ
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
चौबीस घन्टे साथ में
चौबीस घन्टे साथ में
Satish Srijan
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"कुछ खास हुआ"
Lohit Tamta
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
Dr MusafiR BaithA
माँ की चाह
माँ की चाह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
Roshani jaiswal
Loading...