Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो री

वर्तमान के युवा शिक्षा में उतनी रुचि नहीं ले रहे जितनी वो रील्स, लव फील्स और वेलेटाइन डे में ले रहे है बच्चों के शिक्षास्तर गिरने का कारण उनको एक कम उम्र में ही किसी लड़की के प्रति आकर्षण और उसे मोहब्बत करने का जो चस्का लगा है ।वहीं उनके दिमाग को लक्ष्य से भटका दिया है।
RJ Anand Prajapati

88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नश्वर है मनुज फिर
नश्वर है मनुज फिर
Abhishek Kumar
"सरल गणित"
Dr. Kishan tandon kranti
" बंदिशें ज़ेल की "
Chunnu Lal Gupta
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
मुहब्बत के शहर में कोई शराब लाया, कोई शबाब लाया,
डी. के. निवातिया
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
दो वक्त के निवाले ने मजदूर बना दिया
दो वक्त के निवाले ने मजदूर बना दिया
VINOD CHAUHAN
2318.पूर्णिका
2318.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
Anil chobisa
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
चाहे किसी के साथ रहे तू , फिर भी मेरी याद आयेगी
gurudeenverma198
मन चाहे कुछ कहना....!
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
********* आजादी की कीमत **********
********* आजादी की कीमत **********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मानवता का मुखड़ा
मानवता का मुखड़ा
Seema Garg
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
*ये साँसों की क्रियाऍं हैं:सात शेर*
Ravi Prakash
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...