Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

वन को मत काटो

वन को मत काटो ,
अपने निजी स्वार्थ मे,
वसुंधरा का एक हिस्सा है,
प्राणियों के जीवन का किस्सा है।

वन देते है फल–फूल और औषधियाँ,
जीव-जंतुओ का होता है घर,
जीव विविधता का वन है क्षेत्र,
रखता है जीवन संतुलन।

वन से होते मानसून का परिवर्तन,
इसका दोहन नहीं है उत्तम,
सोच समझ का करो शहरीकरण,
औद्योगिकरण को दो उचित स्थान ।

वन काटने से होती धरती बंजर,
भूस्खलन की आती है नौबत,
मिट्टी का कटाव नहीं रुकता,
वायु भी दूषित होती जाती है।

आज अभी से प्रण है लेना,
वन को काटने से है रोकना,
वन सुरक्षित जन जीवन सुरक्षित,
वन से अपनी धरा खुशहाल,
वसुंधरा का एक हिस्सा है,
प्राणियों के जीवन का किस्सा है।

वन देते है फल फूल और औषधि,
जीव जंतुओ का होता है घर,
जैव विविधता का वन है क्षेत्र,
रखता है जीवन संतुलन।

वन से होते मानसून का परिवर्तन,
इनका दोहन नहीं है उत्तम,
सोच समझ का करो शहरीकरण,
औद्योगिकरण को दो उचित स्थान ।

वन काटने से होती धरती बंजर,
भूस्खलन की आती है नौबत,
मिट्टी का कटाव नही रुकता,
वायु भी दूषित होती जाती है।

आज अभी से प्रण है लेना,
वन को कटने से है रोकना,
वन सुरक्षित जन–जीवन धन सुरक्षित,
वन से अपनी धरा खुशहाल।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

Language: Hindi
2 Likes · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
कभी जब आपका दीदार होगा
कभी जब आपका दीदार होगा
सत्य कुमार प्रेमी
आंखों की नशीली बोलियां
आंखों की नशीली बोलियां
Surinder blackpen
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
डूबे किश्ती तो
डूबे किश्ती तो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
"याद आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
लोकतन्त्र के हत्यारे अब वोट मांगने आएंगे
Er.Navaneet R Shandily
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
*जिंदगी*
*जिंदगी*
नेताम आर सी
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
अनवरत ये बेचैनी
अनवरत ये बेचैनी
Shweta Soni
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माँ
माँ
Neelam Sharma
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये तनहाई
ये तनहाई
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
शाम सवेरे हे माँ, लेते हैं तेरा हम नाम
शाम सवेरे हे माँ, लेते हैं तेरा हम नाम
gurudeenverma198
Loading...