Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2023 · 1 min read

वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ

वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
न जाने कबसे मैं, इक दीप दिल में बाले बैठा हूँ
भगत सिंह की तरह, मेरी शहादत दास्ताँ में हो
यही अरमान लेके, मौत अब तक टाले बैठा हूँ
मिरे दिल की सदायें, लौट आईं आसमानों से
ख़ुदा सुनता नहीं है, करके ऊँचे नाले बैठा हूँ
थके हैं पाँव, मन्ज़िल चन्द ही क़दमों के आगे है
मुझे मत रोकना, अब फोड़ सारे छाले बैठा हूँ
मिरी ख़ामोशियों का, टूटना मुमकिन नहीं है अब
लबों पर मैं न जाने, क़ुफ़्ल* कितने डाले बैठा हूँ
___________________
*क़ुफ़्ल (قفل) — ताले
– महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 2 Comments · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
*Author प्रणय प्रभात*
सफलता तीन चीजे मांगती है :
सफलता तीन चीजे मांगती है :
GOVIND UIKEY
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
आँखे नम हो जाती माँ,
आँखे नम हो जाती माँ,
Sushil Pandey
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
पत्थर
पत्थर
manjula chauhan
ईर्ष्या
ईर्ष्या
नूरफातिमा खातून नूरी
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2351.पूर्णिका
2351.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*रावण (कुंडलिया)*
*रावण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
"दो नावों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
Phool gufran
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
खोखली बुनियाद
खोखली बुनियाद
Shekhar Chandra Mitra
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
Loading...