Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 2 min read

वक्त

गीत – – – – – –

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का शबब तेरी तारीख का नूर बताने वाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

तेरे लम्हों ने जहां को बनते बिगड़ते देखा तूं ही इंसा को जमाने में बताने वाला ।।

तूं ही किस्मत का करिश्मा राजा रंक बनाने वाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

कभी मुकद्दर का गूरुर कभी ताकत का सूरुर हुस्न दौलत कि चमक चाँद दिखाने वाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

तेरी करम का बूझदिल इंसा तेरी रहमों का इंसा खुदा भगवान् तूं ही खुदा भगवान् को जमाने में लाने वाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

तूं चलता मचलता है अपनी रफ्तार में इंसा तेरी रफ्तार का रफ्ता रफ्ता जहाँ कि तमाम जागीर का तूं ही रखवाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

कभी दुआयों कि मुस्कान कही गमगिन हालत कि चाल कभी चहतों कि चाहत मंज़िलाै कि राह बताने वाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

तूं रुकता ही नहीं चलता जाता खुदा भी बुलाए लौट कर नहीं आता इंसा तेरे लम्हों कि कसक यादों में जीता जाता!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

तूं ठहरता है वहां जहां तेरी रफ्तार कि नई पहचान बनाता कोई, तूं दुनिया को इंसान के चेहरों में खुदा भगवान् कि पहचान बताने वाला!!

एै वक्त ठहर जा कोई खास अंदाज़ है आने वाला तेरे लम्हों के इंतज़ार का सबब तेरी तारीख कि का नूर बताने वाला!!

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
জীবনের অর্থ এক এক জনের কাছে এক এক রকম। জীবনের অর্থ হল আপনার
Sakhawat Jisan
अहसास तेरे होने का
अहसास तेरे होने का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
singh kunwar sarvendra vikram
2393.पूर्णिका
2393.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"शत्रुता"
Dr. Kishan tandon kranti
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
गोरा है वो फिर भी काला लगता है।
गोरा है वो फिर भी काला लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
Imagine you're busy with your study and work but someone wai
पूर्वार्थ
* ज्योति जगानी है *
* ज्योति जगानी है *
surenderpal vaidya
****बसंत आया****
****बसंत आया****
Kavita Chouhan
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*इमली (बाल कविता)*
*इमली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भोले नाथ है हमारे,
भोले नाथ है हमारे,
manjula chauhan
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
शब-ए-सुखन भी ज़रूरी है,
शब-ए-सुखन भी ज़रूरी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ये वादियां
ये वादियां
Surinder blackpen
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
Loading...