Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

वक्त लगता है

घर बनाने में वक़्त लगता है।
पर मिटाने में पल नहीं लगता
दोस्ती बड़ी मुश्किल से बनती हैं।
पर दुश्मनी में वक़्त नहीं लगता
गुज़र जाती है उम्र रिश्ते बनाने में
पर बिगड़ने में वक़्त नहीं लगता
जो कमाता है महीनों में आदमी
उसे गंवाने में वक़्त नहीं लगता
पल पल कर उम्र पाती है जिंदगी
पर मिट जाने में वक़्त नहीं लगता
जो उड़ते हैं अहम के आसमानों में
जमीं पर आने में वक़्त नहीं लगता
हर तरह का वक़्त आता है ज़िंदगी में
वक़्त के गुज़रने में वक़्त नहीं लगता…!!

Language: English
Tag: Poem
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
हुनर का नर गायब हो तो हुनर खाक हो जाये।
Vijay kumar Pandey
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
दर्पण दिखाना नहीं है
दर्पण दिखाना नहीं है
surenderpal vaidya
राजनीती
राजनीती
Bodhisatva kastooriya
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
अनुराग
अनुराग
Sanjay ' शून्य'
खेल संग सगवारी पिचकारी
खेल संग सगवारी पिचकारी
Ranjeet kumar patre
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मां महागौरी
मां महागौरी
Mukesh Kumar Sonkar
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
भागमभाग( हिंदी गजल)
भागमभाग( हिंदी गजल)
Ravi Prakash
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
Vishal babu (vishu)
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
Subhash Singhai
Loading...