Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

वक्त बक्त की बात (मेरे नौ शेर )

(एक )

अपने थे , वक़्त भी था , वक़्त वह और था यारों
वक़्त पर भी नहीं अपने बस मजबूरी का रेला है

(दो )

वक़्त की रफ़्तार का कुछ भी भरोसा है नहीं
कल तलक था जो सुहाना कल बही विकराल हो

(तीन )

बक्त के साथ बहना ही असल तो यार जीबन है
बक्त को गर नहीं समझे बक्तफिर रूठ जाता है

(चार )

बक्त कब किसका हुआ जो अब मेरा होगा
बुरे बक्त को जानकर सब्र किया मैनें

(पांच)

बक्त के साथ बहने का मजा कुछ और है प्यारे
बरना, रिश्तें काँच से नाजुक इनको टूट जाना है

(छह )

वक्त की मार सबको सिखाती सबक़ है
ज़िन्दगी चंद सांसों की लगती जुआँ है

(सात)

मेहनत से बदली “मदन ” देखो किस्मत
बुरे वक्त में ज़माना किसका हुआ है

(आठ)

बक्त ये आ गया कैसा कि मिलता अब समय ना है
रिश्तों को निभाने के अब हालात बदले हैं

(नौ)
ना खाने को ना पीने को ,ना दो पल चैन जीने को
ये कैसा वक़्त है यारों , ये जल्दी से गुजर जाये

वक्त बक्त की बात (मेरे नौ शेर )

मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 327 Views
You may also like:
महँगाई
आकाश महेशपुरी
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
"एक अत्याचार"
पंकज कुमार कर्ण
इतना आसां कहां
कवि दीपक बवेजा
✍️गुनाह की सजा✍️
'अशांत' शेखर
अब तो ज़ख्मो से रिश्ता पुराना हुआ....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
अंजामे-इश्क मेरे दोस्त
gurudeenverma198
रावण का तुम अंश मिटा दो,
कृष्णकांत गुर्जर
आर्य समाज, पट्टी टोला ,रामपुर का 122 वां वार्षिकोत्सव*
Ravi Prakash
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
💐दोषानां निवारणस्य कृते प्रार्थना💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स...
Manisha Manjari
कोशिशों में तेरी
Dr fauzia Naseem shad
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
! ! बेटी की विदाई ! !
Surya Barman
सावन
Shiva Awasthi
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
समर
पीयूष धामी
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
वर्षा की बूँद
Aditya Prakash
गज़ल
Krishna Tripathi
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
कई शामें शामिल होकर लूटी हैं मेरी दुनियां /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
"शिवाजी और उनके द्वारा किए समाज सुधार के कार्य"
Pravesh Shinde
” DRAGON HAS NO RIGHT TO SWALLOW SOUTH CHINA SEA...
DrLakshman Jha Parimal
सफलता की आधारशिला सच्चा पुरुषार्थ
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
Loading...