Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

वक्त नहीं है

दो घड़ी मुस्कुरा लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी खिलखिला लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी मुस्कुरा लूं……….
काम है बहुत से ये जिंदगी दो पल की
पल भर मैं सुस्ता लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी मुस्कुरा लूं……….
सब्र का फल देखो कहते हैं लोग मीठा
महफ़िल मैं सजा लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी मुस्कुरा लूं……….
यूं ही रहा कमाता अपनों की जरूरते मैं
अपने लिए कमा लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी मुस्कुरा लूं……….
रूठा मुकद्दर मेरा मुझसे जन्म जन्म से
रूठा खुदा मना लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी मुस्कुरा लूं……….
क्या किया है जिंदगी भर लोग पूछते हैं
V9द उन्हें समझा लूं पर वक्त नहीं है
दो घड़ी मुस्कुरा लूं……….

2 Likes · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दीपावली त्यौहार
दीपावली त्यौहार
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
चाय
चाय
Dr. Seema Varma
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
मुख्तशर सी जिन्दगी हैं,,,
Taj Mohammad
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
"इण्टरनेट की सीमाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
जिंदगी का सफर है सुहाना, हर पल को जीते रहना। चाहे रिश्ते हो
पूर्वार्थ
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इस तरह बदल गया मेरा विचार
इस तरह बदल गया मेरा विचार
gurudeenverma198
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
मुश्किल राहों पर भी, सफर को आसान बनाते हैं।
Neelam Sharma
"मां की ममता"
Pushpraj Anant
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
कल पहली बार पता चला कि
कल पहली बार पता चला कि
*Author प्रणय प्रभात*
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Image of Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...