Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2023 · 1 min read

वक्त के लम्हों ने रुलाया है।

जब-जब वक्त के लम्हों ने रुलाया है।
दिल को बस इक तू ही याद आया है।।1।।

खुशियों को ना मिले मेरे घर का पता।
किस्मत ने भी हमको बड़ा सताया है।।2।।

रातभर ही कलियां भीगी शबनम से।
कायनात के ज़र्रे-ज़र्रे में नूर आया है।।3।।

हमसे ना पूछो यूं हाल इस जमीं का।
खुदा ने जब बूंद ए आब बरसाया है।।4।।

दीवानगी भी फिजाओ में घुल गई है।
गुलों ने जब गुलशन को महकाया है।।5।।

अपना हाले दिल क्या सुनाए तुमको।
तेरी यादों ने रात रात भर जगाया है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
किया है यूँ तो ज़माने ने एहतिराज़ बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
किसी को इतना भी प्यार मत करो की उसके बिना जीना मुश्किल हो जा
रुचि शर्मा
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
*मुट्ठियाँ बाँधे जो आया,और खाली जाएगा (हिंदी गजल)* ____________
*मुट्ठियाँ बाँधे जो आया,और खाली जाएगा (हिंदी गजल)* ____________
Ravi Prakash
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
* हासिल होती जीत *
* हासिल होती जीत *
surenderpal vaidya
सत्य जब तक
सत्य जब तक
Shweta Soni
संवेदनहीनता
संवेदनहीनता
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
पर्यावरण से न कर खिलवाड़
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
कवि दीपक बवेजा
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3331.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
"मिर्च"
Dr. Kishan tandon kranti
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
साक्षात्कार स्वयं का
साक्षात्कार स्वयं का
Pratibha Pandey
🙅दोहा🙅
🙅दोहा🙅
*प्रणय प्रभात*
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
कविता - छत्रछाया
कविता - छत्रछाया
Vibha Jain
वो जो ख़ामोश
वो जो ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
"प्यासा"-हुनर
Vijay kumar Pandey
मेरी धड़कनों में
मेरी धड़कनों में
हिमांशु Kulshrestha
जनता  जाने  झूठ  है, नेता  की  हर बात ।
जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
sushil sarna
डर के आगे जीत है
डर के आगे जीत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...