Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,

वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
हाथ वायां दायें को, बहका रहा है आजकल ॥

@ नील पदम्

5 Likes · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
शब्दों से बनती है शायरी
शब्दों से बनती है शायरी
Pankaj Sen
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
*खाई दावत राजसी, किस्मों की भरमार【हास्य कुंडलिया】*
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"तलाशिए"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
Lakhan Yadav
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गुम है
गुम है
Punam Pande
■ जय हो...
■ जय हो...
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
मज़दूर
मज़दूर
Shekhar Chandra Mitra
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
* चांद के उस पार *
* चांद के उस पार *
surenderpal vaidya
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
2687.*पूर्णिका*
2687.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...