Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

वक़्त का सबक़

साहिल से सागर का
अंदाज़ नहीं होता
चाहत से ही आदमी
आबाद नहीं होता…
(१)
वक़्त हमें बहुत कुछ
समझा दिया करता
हर एक सवाल का
जवाब नहीं होता…
(२)
मौत का भी कोई
इलाज हो शायद
बेवकूफी का कोई
इलाज नहीं होता…
(३)
अगर दस-बीस हों
तो कोई भी बता दे
भीड़ में किसी तरह
हिसाब नहीं होता…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#आजादी #लोकतंत्र #सत्य
#Lyrics #lyricist #विद्रोही

Language: Hindi
38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम
तुम
Sangeeta Beniwal
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
औरों की बात मानना अपनी तौहीन लगे, तो सबसे पहले अपनी बात औरों
औरों की बात मानना अपनी तौहीन लगे, तो सबसे पहले अपनी बात औरों
*Author प्रणय प्रभात*
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
बात तो कद्र करने की है
बात तो कद्र करने की है
Surinder blackpen
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
"आशा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
परमात्मा रहता खड़ा , निर्मल मन के द्वार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट  हो गया है
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट हो गया है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
सच्ची  मौत
सच्ची मौत
sushil sarna
2306.पूर्णिका
2306.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नैन
नैन
TARAN VERMA
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
sudhir kumar
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
Loading...