Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

वंदना माँ शारदा की

तुम ज्ञान का भंडार माँ, वरदान ऐसा दो हमें
हर पल चलें सद् मार्ग पर,सद्ज्ञान ऐसा दो हमें

चलते रहें संसार में, अटके बिना भटके बिना
सेवा करें इस देश की, सम्मान ऐसा दो हमें

पावन सरल दो मन हमें, पूजा करे जो प्रेम की
अपना सभी को ले बना, दिल दान ऐसा दो हमें

शिक्षा मिले सदभाव की, हर धर्म का सम्मान हो
मानव जहाँ मानव बने, संस्थान ऐसा दो हमें

प्राणी सभी मिलकर रहें, हो भावना कल्याण की
आये सभी के काम जो, धन-धान ऐसा दो हमें

मन में भरा उल्लास हो, पूरे सभी अभियान हों
जीवन सजे सबका यहाँ, अरमान ऐसा दो हमें

संसार में हरदम रहे, बस नाम ऊँचा देश का
अवसर मिले हर हाथ को, विज्ञान ऐसा दो हमें

404 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
जी रही हूँ
जी रही हूँ
Pratibha Pandey
No battles
No battles
Dhriti Mishra
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
नाम परिवर्तन
नाम परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
*जब नशा साँसों में घुलता, मस्त मादक चाल है (मुक्तक)*
*जब नशा साँसों में घुलता, मस्त मादक चाल है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
उस गुरु के प्रति ही श्रद्धानत होना चाहिए जो अंधकार से लड़ना सिखाता है
कवि रमेशराज
🙅सनातन संस्कृति🙅
🙅सनातन संस्कृति🙅
*Author प्रणय प्रभात*
होली आई रे
होली आई रे
Mukesh Kumar Sonkar
सागर से दूरी धरो,
सागर से दूरी धरो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिवाली त्योहार का महत्व
दिवाली त्योहार का महत्व
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
Loading...