Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2022 · 1 min read

लड़ते रहो

लड़खड़ा रहे हैं ,गिर रहे है , गिर कर संभल रहे हैं
ये तजुर्बे हैं जो हो रहे हैं ।

2 Likes · 662 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या यही प्यार है
क्या यही प्यार है
gurudeenverma198
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
क्यों कहते हो प्रवाह नहीं है
Suryakant Dwivedi
"ये याद रखना"
Dr. Kishan tandon kranti
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
कीमत बढ़ा दी आपकी, गुनाह हुआ आँखों से ll
गुप्तरत्न
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
2716.*पूर्णिका*
2716.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तरन्नुम में अल्फ़ाज़ सजते सजाते
तरन्नुम में अल्फ़ाज़ सजते सजाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
प्रणय 9
प्रणय 9
Ankita Patel
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
जब लोग आपसे खफा होने
जब लोग आपसे खफा होने
Ranjeet kumar patre
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
हैं श्री राम करूणानिधान जन जन तक पहुंचे करुणाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
#आह्वान
#आह्वान
*Author प्रणय प्रभात*
बेटी बेटा कह रहे, पापा दो वरदान( कुंडलिया )
बेटी बेटा कह रहे, पापा दो वरदान( कुंडलिया )
Ravi Prakash
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
Loading...