Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2022 · 1 min read

लड़ते रहो

लड़खड़ा रहे हैं ,गिर रहे है , गिर कर संभल रहे हैं
ये तजुर्बे हैं जो हो रहे हैं ।

1 Like · 94 Views
You may also like:
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
गम देके।
Taj Mohammad
'नील गगन की छाँव'
Godambari Negi
मित्रता दिवस
Dr Archana Gupta
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️माटी का है मनुष्य✍️
'अशांत' शेखर
जम्हूरियत
बिमल
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
चाय की चुस्की
Buddha Prakash
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
मेरी ईद करा दो।
Taj Mohammad
यह जिन्दगी
Anamika Singh
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
In my Life.
Taj Mohammad
ज़रूरी नहीं।
Taj Mohammad
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
औनी पौनी बातें
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
'अशांत' शेखर
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
✍️मैं आज़ाद हूँ (??)✍️
'अशांत' शेखर
Loading...