Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

लौट आओ ना

अधूरा हूँ मैं बहुत तुम्हारे बिना
लौट आओ ना लौट आओ ना
ये जीवन है सूना तुम्हारे बिना
लौट आओ ना लौट आओ ना
सफर जिंदगी का ये कैसे कटे
अंधियारा मन का ये कैसे छंटे
नहीं सुझता कुछ तुम्हारे बिना
लौट आओ ना लौट आओ ना
वो वादे वो कसमें खाई थी जो
करो याद रस्में निभाई थी जो
कटे ना सफर ये तुम्हारे बिना
लौट आओ ना लौट आओ ना
खता अगर हुई तो खतावार हूँ
मैं तेरा प्यार था मैं तेरा प्यार हूँ
अधूरा हूँ V9द मैं तुम्हारे बिना
लौट आओ ना लौट आओ ना

2 Likes · 327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी जरूरत तक मैं उसकी ज़रुरत बनी रहीं !
उसकी जरूरत तक मैं उसकी ज़रुरत बनी रहीं !
Dr Manju Saini
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
परतंत्रता की नारी
परतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
Shweta Chanda
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
"अकेला"
Dr. Kishan tandon kranti
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
*योग (बाल कविता)*
*योग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डर  ....
डर ....
sushil sarna
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
खुदा को ढूँढा दैरो -हरम में
shabina. Naaz
"फितरत"
Ekta chitrangini
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
23/196. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/196. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
Ranjeet kumar patre
हमारी जिंदगी ,
हमारी जिंदगी ,
DrLakshman Jha Parimal
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...