Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 2 min read

लोभी चाटे पापी के गाँ… कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA

मेरे घर की तरफ एक भद्दी सी लोकल कहावत है मगर है यह जोरदार, कटु सच्चाई को व्यक्त करने वाली। कहावत है -‘लोभी चाटे पापी के गाँड़’!

बिहार के चंपारण क्षेत्र में हाल में यह कहावत सार्थक हुई है।

एक जिंदा लड़की का श्राद्ध उसके पिता ने कर दिया है। श्राद्ध करने वाला पिता और श्राद्ध कराता पंडित पापी की भूमिका करते पकड़े गए हैं।

मीडिया में आई घटना के अनुसार, एक हिन्दू वयस्क जोड़े ने (जो सम्भवतः सजातीय हैं) घरवालों की मर्ज़ी के विरुद्ध प्रेम विवाह रचाया है।

कानून के ख्याल से ऐसा विवाह वैध है मगर लड़की एवं लड़के, दोनों के घरवाले नाराज़ हैं। नाराजगी स्वाभाविक है। बिहारी समाज अभी तंग नजर है, ऐसे परिवारों को ताना देता है।

उधर पुलिस लड़के एवं लड़की के घरवालों को समझाने-बुझाने में लगी है कि इस कानूनन वैध विवाह एवं बच्चों के कदम को वे स्वीकारें। न मानेंगे तो पुलिस शायद, अभिभावकों को कानूनी डंडे से भी मनवाने का प्रयास करेगी ही!

लड़के के पिता पक्ष का क्रोद्ध ज्यादा स्वाभाविक है क्योंकि दान-दहेज़ का जो उसने मंसूबा संजो रखा होगा वह अचानक धराशायी हो गया है।

लड़की के घरवालों का दुखड़ा यह होगा कि जब घर में ऐसी ‘नालायकी’ होती है तो पड़ोसी, बिरादरी वाले एवं रिश्तेदार भड़कते हैं। शादी विवाह एवं रिश्ते निभाने में परेशानी आती है। इन अपनों से समर्थन सहयोग पाने में बाधा पड़ती है और कमोवेश समाज में ब्लैकलिस्टेड हो जाने की स्थिति बनती है। ख़ासकर तब जब आप आर्थिक रूप से एवं रसूख के हिसाब से कमजोर पड़ते हों।कई बार संतानों की ऐसी ‘गलतियों’ के लिए अभिभावकों से पंचायत लगाकर दंड की वसूली की जाती है।

सिस्टम के सहयोग के लिए बनी गांव गिराम की पंचायतें भी ऐसे मौकों पर जाति-पंचायतों के आगे फ़िजूल की साबित होती हैं।

प्रस्तुत मामले में रोचक यह हुआ है कि लड़की के पिता ने आवेश में आकर बेटी को मरा करार देकर श्राद्ध कर डाला है।

यह श्राद्ध का मामला मज़ेदार है। जिस ब्राह्मण/पंडित ने यह किया है उसे श्राद्ध के कर्मकांड को जानबूझकर दूषित करने, धार्मिक विधान का मखौल उड़ाने के लिए दंडित किया जाना चाहिए। स्थानीय ब्राह्मण बिरादरी को चाहिए कि श्राद्ध कराने वाले अपने इस लोभी साथी पंडित को कोई सख्त सज़ा दे। उसे कम से कम कुछ सालों के लिए पण्डितगिरी/पुरोहतगिरी करने से वंचित कर दे।

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
gurudeenverma198
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
मेरी भी कहानी कुछ अजीब है....!
singh kunwar sarvendra vikram
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
शिमला
शिमला
Dr Parveen Thakur
इंडियन टाइम
इंडियन टाइम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वाणी
वाणी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
नफरतों को भी
नफरतों को भी
Dr fauzia Naseem shad
रेत और रेगिस्तान के अर्थ होते हैं।
रेत और रेगिस्तान के अर्थ होते हैं।
Neeraj Agarwal
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
Suryakant Dwivedi
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
हमें भी जिंदगी में रंग भरने का जुनून था
VINOD CHAUHAN
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
दो अपरिचित आत्माओं का मिलन
दो अपरिचित आत्माओं का मिलन
Shweta Soni
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
बदलने लगते है लोगो के हाव भाव जब।
Rj Anand Prajapati
कभी कभी चाहती हूँ
कभी कभी चाहती हूँ
ruby kumari
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चलो, इतना तो पता चला कि
चलो, इतना तो पता चला कि "देशी कुबेर काला धन बांटते हैं। वो भ
*प्रणय प्रभात*
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
शेखर सिंह
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
प्रवासी चाँद
प्रवासी चाँद
Ramswaroop Dinkar
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉक्टर रागिनी
"क्या बताएँ तुम्हें"
Dr. Kishan tandon kranti
दुआ
दुआ
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
पढ़े-लिखे पर मूढ़
पढ़े-लिखे पर मूढ़
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
Loading...