Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2023 · 1 min read

कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं

जब जब आन पड़ी धरती पर, तब तब हमने लहराया हैंl
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा, देश का मान बढाया हैं ll
अंग्रेजो से जंग लड़ी थी, एक नहीं कई बार लड़ी l
कभी हिरदेशाह कभी अवंती, बनकर हैं कई बार लड़ी ll
महाकौशल में हिरदेशाह ने, जब कोहराम मचाया था l
फतेहपुर में दरियाव बनकर, अंग्रेजों को भगाया था ll
रानी खूब रामगढ़ वाली, वीर अवंतीबाई थी l
जग में नाम किया था रोशन, लोधी वंश कहाई थी ll
लोधी राजपूत का वंशज, गुलाब सिंह कहलाया था l
पहली बार तिरंगा झंडा, लखनऊ में फहराया था ll
बड़े बडों की बात छोड़ दो, छोटों ने भी वार किये l
छ: लोधी सबलपुर के, एक साथ बलिदान हुए ll
गाथा कितनी तुम्हें सुनाऊं, अपने वंश महान की l
श्याम सिंह की चले लेखनी, तेजपुरिया अभिमान की ll
जब जब आन पड़ी धरती पर, तब तब हमने लहराया हैंl
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा, देश का मान बढाया हैं ll
📝
लोधी श्याम सिंह तेजपुरिया
सर्वाधिकार सुरक्षित
24/10/2023
(प्रयाग राज इलाहाबाद सांई लाज )

1 Like · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Know your place in people's lives and act accordingly.
Know your place in people's lives and act accordingly.
पूर्वार्थ
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
कौन ख़ामोशियों को
कौन ख़ामोशियों को
Dr fauzia Naseem shad
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
*मुकदमा  (कुंडलिया)*
*मुकदमा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
The sky longed for the earth, so the clouds set themselves free.
Manisha Manjari
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल में आने लगे हैं
दिल में आने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बाल-मन"
Dr. Kishan tandon kranti
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मेरी आँखों में देखो
मेरी आँखों में देखो
हिमांशु Kulshrestha
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
■ मनोरोग का क्या उपचार...?
*Author प्रणय प्रभात*
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
*** एक दीप हर रोज रोज जले....!!! ***
VEDANTA PATEL
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
Loading...