Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*

लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)
—————————————-
1)
लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे
सज-सॅंवरकर हॅंस दिए, फिर बाद में रोते रहे
2)
दो दिवस खुशियॉं मिलीं, फिर चार दिन रुदन रहा
जिंदगी भर साथ सबके, हादसे होते रहे
3)
दौड़ते-फिरते रहे, धन रूप पद की चाह में
लक्ष्य को पाते रहे, उपलब्धियॉं खोते रहे
4)
फूल के नाजुक बदन का, संग यों तो कुछ नहीं
पुष्प-माला किंतु धागा, सूई ही पोते रहे
5)
स्वर्ग-नर्क किसे पता, किसको मिलेगा या नहीं
बीज लेकिन पुण्य के, सज्जन पुरुष बोते रहे
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615 451

238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ये ज़िंदगी.....
ये ज़िंदगी.....
Mamta Rajput
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
चांद भी आज ख़ूब इतराया होगा यूं ख़ुद पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अंतस्थ वेदना
अंतस्थ वेदना
Neelam Sharma
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
gurudeenverma198
बेटी हूं या भूल
बेटी हूं या भूल
Lovi Mishra
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
VINOD CHAUHAN
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पानी की खातिर
पानी की खातिर
Dr. Kishan tandon kranti
भूल जा इस ज़माने को
भूल जा इस ज़माने को
Surinder blackpen
3015.*पूर्णिका*
3015.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🙅पूर्वानुमान🙅
🙅पूर्वानुमान🙅
*प्रणय प्रभात*
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
खुद की अगर खुद से
खुद की अगर खुद से
Dr fauzia Naseem shad
"कभी मेरा ज़िक्र छीड़े"
Lohit Tamta
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
ला-फ़ानी
ला-फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
Loading...