Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

लोकतंत्र

चुनाव आने वाले हैं…. आगे बढिए और अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करिए….

लोकतन्त्र का यज्ञ हो रहा,
क्या इसकी समिधा ध्यान करो,
प्रगतिशील मन्त्रों का बल लो,
देवत्व का आह्वान करो,
त्यागो डर को छोड़ हिचक को,
गान्डीव शर सन्धान करो,
जस चाहो तस देश बढ़ेगा,
बस आगे बढ़कर मतदान करो ।।

@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम्”

Language: Hindi
5 Likes · 450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
#कौन_देगा_जवाब??
#कौन_देगा_जवाब??
*Author प्रणय प्रभात*
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अयाग हूँ मैं
अयाग हूँ मैं
Mamta Rani
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
आश पराई छोड़ दो,
आश पराई छोड़ दो,
Satish Srijan
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
*कागभुशुंडी जी (कुंडलिया)*
*कागभुशुंडी जी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
तुम्हारी खुशी में मेरी दुनिया बसती है
Awneesh kumar
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
शादी वो पिंजरा है जहा पंख कतरने की जरूरत नहीं होती
शादी वो पिंजरा है जहा पंख कतरने की जरूरत नहीं होती
Mohan Bamniya
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
Anuj kumar
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...