Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

ले बुद्धों से ज्ञान

ले बुद्धों से ज्ञान
रे पगले
ले सिद्धों से ज्ञान…
(१)
आख़िर कब तक रहेगा सोया
झूठ-मुठ के सपनों में खोया
अपने को पहचान
रे पगले
अपनों को पहचान…
(२)
दुनिया है जब रैन बसेरा
ना कुछ तेरा ना कुछ मेरा
फिर कैसा अभिमान
रे पगले
फिर कैसा अभिमान…
(३)
मौत जिस दिन आएगी
सब कुछ छिन ले जाएगी
हो जा अभी सावधान
रे पगले
हो जा यहीं सावधान…
(४)
अपने-बेगाने सभी यहां
नए-पुराने सभी यहां
एक पल के मेहमान
रे पगले
एक क्षन के मेहमान…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#गीत #writer #bollywood
#बुद्ध #कबीर #buddha #kabir
#lyricist #lyrics #buddhism
#निर्गुण #मृत्यु #दर्शन #nirgun

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
अनिल "आदर्श"
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
हाड़-माँस का है सुनो, डॉक्टर है इंसान (कुंडलिया)
हाड़-माँस का है सुनो, डॉक्टर है इंसान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चुनिंदा लघुकथाएँ
चुनिंदा लघुकथाएँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
धोखे का दर्द
धोखे का दर्द
Sanjay ' शून्य'
मां
मां
Sonam Puneet Dubey
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
हर तरफ खामोशी क्यों है
हर तरफ खामोशी क्यों है
VINOD CHAUHAN
उनकी उल्फत देख ली।
उनकी उल्फत देख ली।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...