Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

लेकिन क्यों ?

लेकिन क्यों
जब शब्द लिखने को थे
तव पास कलम नही था
जब कलम पास आया
तव बक्त नही था
जब वक्त भी मिला
तब शब्द नही थे।
वस यही उलझन लगी रही
इसे सुलझाते -सुलझाते उम्र बीत गई
पर यह उलझन न सुलझ पाई
अब कलम भी है पास
वक्त और शब्द भी है
परन्तु आलस और थकान भी
जिससे अब हाथ नही चलते
पहले स्वाधीन था
अब पराधीन हूँ
पहले वक्त के लिए रोता था
अब वक्त के कारण रोता हूँ
क्या यही ज़िन्दगी है
जिसके लिए हम दौड़ते रहे
सच मान ने सके
झूठ छोड न सके
फिर भी हाथ कुछ न आया
मुट्ठी बांधकर आये थे
और खोल कर चले जायेगे
सब जानते है
पर मानते नही
लेकिन क्यों————–?
दिनेश कुमार गंगवार

5 Likes · 3 Comments · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
तुम्हें क्या लाभ होगा, ईर्ष्या करने से
gurudeenverma198
जिन्दगी की शाम
जिन्दगी की शाम
Bodhisatva kastooriya
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
"माफ करके"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
DrLakshman Jha Parimal
इश्क़  जब  हो  खुदा  से  फिर  कहां  होश  रहता ,
इश्क़ जब हो खुदा से फिर कहां होश रहता ,
Neelofar Khan
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
नन्ही
नन्ही
*प्रणय प्रभात*
आँखों में अँधियारा छाया...
आँखों में अँधियारा छाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रमेशराज की एक तेवरी
रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
My love at first sight !!
My love at first sight !!
Rachana
*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*
*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरे पिता
मेरे पिता
Dr.Pratibha Prakash
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
"शाम भी गुजर गई"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...