Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

लिपटी परछाइयां

मेरी रूह संग लिपटी,तेरी यादों की परछाइयां।
रुखसत हुआ जब से तू , रूठी हैं रानाईयां।

कभी तेरे ख्यालों से ही,महक उठते थे चारसु
आज तेरे जाने से ,खामोश है शहनाईयां।

बहुत करीब से मेरे ,उठ कर चला गया कोई
बहुत डस रहीं हैं , अब मुझको ये तन्हाईयां।

चाहते तो नशर कर दे,तेरा नाम सरे महफ़िल
क्या करें मंजूर न थी, मुझको तेरी रुसवाईयां।

कैसे लिखें काग़ज़ पर,अपना हम हाल‌ ए दिल
लिखते लिखते कम पड़ जायेगी ये रोशनाइयां

सुरिंदर कौर

143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
"तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
कामचोर (नील पदम् के दोहे)
कामचोर (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
🙅आज पता चला🙅
🙅आज पता चला🙅
*प्रणय प्रभात*
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
तुम और मैं
तुम और मैं
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
इतना रोई कलम
इतना रोई कलम
Dhirendra Singh
Winner
Winner
Paras Nath Jha
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
Ravi Prakash
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
किस बात का गुमान है यारो
किस बात का गुमान है यारो
Anil Mishra Prahari
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
लाल दशरथ के है आने वाले
लाल दशरथ के है आने वाले
Neeraj Mishra " नीर "
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
कदम रखूं ज्यों शिखर पर
Divya Mishra
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
surenderpal vaidya
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...