Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2023 · 1 min read

लिख सकता हूँ ।।

दिन को दिन लिख सकता हूँ,
रात को रात लिख सकता हूँ,
डरता नहीं मैं किसी से क्युंकि
मैं युग की बात लिख सकता हूँ ।।

सच की स्याही कागज पे उतार सकता हूँ,
जिससे जैसी मुलाकात हो लिख सकता हूँ,
गम, पीड़ा और आँसू को भी लिख सकता हूँ
दिल में दर्द हो तो भी, आँसू रोक सकता हूँ ।।

सोचा नहीं था मैंने कि –
मेरे लिखने से ये भी हो सकता हैं,
गलत साबित करने में मुझको,
सारा जमाना शामिल हो सकता है,

किसी के कुछ कहने से
मेरा हौसला भी तबाह हो सकता है,
मेरे प्यार भरे कुछ व्यंगात्मक शब्दों से
समाज में बवाल भी हो सकता है।।

©अभिषेक पाण्डेय अभि
०३/०१/२०२३

33 Likes · 4 Comments · 519 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
मेघ
मेघ
Rakesh Rastogi
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
"गारा"
Dr. Kishan tandon kranti
........,?
........,?
शेखर सिंह
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
तअलीम से ग़ाफ़िल
तअलीम से ग़ाफ़िल
Dr fauzia Naseem shad
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
Adha Deshwal
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
Sonam Puneet Dubey
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
बस मुझे मेरा प्यार चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Manu Vashistha
2378.पूर्णिका
2378.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
सोने का हिरण
सोने का हिरण
Shweta Soni
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल* 🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बाल कविता: मोर
बाल कविता: मोर
Rajesh Kumar Arjun
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
Loading...