Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

“लिखूँ मैं”

शब्द लिखूँ ,गीत लिखूँ, छन्द लिखूँ मैं ,
आज नव – रूप सजा उमंग लिखूँ मैं।
भोर के उजास सी नव – कामनायें,
प्रीत के श्रृंगार में नव -रंग लिखूँ मैं।
आस लिखूँ,प्यास लिखूँ,उल्लास लिखूँ मैं,
आज विहग गीत नया गुनगुना के लिखूँ मैं।।

Language: Hindi
373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ बधाई
■ बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
2. काश कभी ऐसा हो पाता
2. काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
मैं तो महज संघर्ष हूँ
मैं तो महज संघर्ष हूँ
VINOD CHAUHAN
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
मुलभुत प्रश्न
मुलभुत प्रश्न
Raju Gajbhiye
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उतना ही उठ जाता है
उतना ही उठ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
ताकि वो शान्ति से जी सके
ताकि वो शान्ति से जी सके
gurudeenverma198
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
छल.....
छल.....
sushil sarna
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3219.*पूर्णिका*
3219.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
Taj Mohammad
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
Loading...