Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha

आप लेखक हैं और कम से कम जाति, धर्म,जाति-धर्म से लगी नकारात्मक रूढ़ियों, अंधविश्वासों, वाह्याचारों के विरुद्ध नहीं लिखते-पढ़ते तो जाइये, मैं आपको प्रगतिशील/वामी/मार्क्सवादी/अम्बेडकरवादी/नास्तिक, इनमें से खुद को आप जो कुछ क्लेम करे, नहीं मानता।

कम से कम इसलिए कहा कि इन व्याधियों के विरुद्ध आपका आचरण भी होना चाहिए। सोने में सुगंध तभी जब आपकी रचनाशीलता कर्म से बलित हो, समर्थित हो।

लिखते हम इसलिए हैं कि उससे कोई सकारात्मक संदेश मिले, कुछ न कुछ धुंध छँटे। जब हमारे लिखने के विरुद्ध हमारा आचरण हो, उसके मेल में न हो तो लिखे का क्या अर्थ?

Language: Hindi
1 Like · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
अवसाद
अवसाद
Dr. Rajeev Jain
जीवन का सफर
जीवन का सफर
नवीन जोशी 'नवल'
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
दोनों हाथों से दुआएं दीजिए
Harminder Kaur
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
बाइस्कोप मदारी।
बाइस्कोप मदारी।
Satish Srijan
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सुनते हैं नेता-अफसर, अब साँठगाँठ से खाते हैं 【हिंदी गजल/गीत
*सुनते हैं नेता-अफसर, अब साँठगाँठ से खाते हैं 【हिंदी गजल/गीत
Ravi Prakash
" प्रश्न "
Dr. Kishan tandon kranti
*श्रीराम*
*श्रीराम*
Dr. Priya Gupta
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Upon waking up, oh, what do I see?!!
Upon waking up, oh, what do I see?!!
R. H. SRIDEVI
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
मैं भी साथ चला करता था
मैं भी साथ चला करता था
VINOD CHAUHAN
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
मैं कितना अकेला था....!
मैं कितना अकेला था....!
भवेश
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
Loading...