Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 2 min read

#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?

#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
________________________________________
है लिखा विधि में विधाता ने तमस का ही सबेरा,
तो बताओ इस दिवाली दीप फिर कैसे जलायें।

स्वप्न पे मरघट लिखा है
और शुक्लक सङ्ग दूरी,
कालिमा को कर ग्रहण हम
शून्य से संवाद करते।
है पता जब भाग्य अपना
जो विधाता ने वदा है,
फिर भला किस हेतु हम निज
देव से परिवाद करते।

क्षुब्ध जो तन है क्षुधा से क्या करे वह उत्सवों का,
वेदना वेधित हृदय त्योहार फिर कैसे मनाएं।
है लिखा विधि में विधाता ने तमस का ही सबेरा,
तो बताओ इस दिवाली दीप फिर कैसे जलायें।।

कर्म दुष्कर नित्य करते
लब्ध से अलगाव लेकिन,
नत पड़ा पुरुषार्थ मेरा
सद्य ही अब दैव्य सम्मुख।
कृत्य साहस व्यर्थ सब कुछ
कष्ट से संतप्त जीवन,
क्रूर क्रंदन भाग्य का तो
दिव्य जन हो दृश्य दुर्मुख।

इस व्यथा की अब्धि में हम डूब तो सिर तक गये हैं,
काश! कोई अद्य आकर ले हमारी भी बलाएं।
है लिखा विधि में विधाता ने तमस का ही सबेरा,
तो बताओ इस दिवाली दीप फिर कैसे जलायें।।

त्यक्त हर संबंध से हम
और संबंधी न कोई,
हम बेचारों का रहा निज
पीर से अनुबंध गहरा।
विस्मयी- बोधक लगे यदि
उर उमंगित हो हमारा,
हत- हृदय अवसाद पीड़ा
भूख से आबंध गहरा।

कल्पना की डोर टूटी और बिखरे आस मन के,
लाश पर अभिलाष की बंसी सुखद कैसे बजाएं।
है लिखा विधि में विधाता ने तमस का ही सबेरा,
तो बताओ इस दिवाली दीप फिर कैसे जलायें।।

कान्ति निर्मल ने तजा है
और तम ने बांह थामा,
तंगहाली प्रेमिका बन
अंक में भरने लगी है।
जो धनेश्वर हैं जलाएं
दीप उत्सव के निरंतर,
हम पुजारी कालिमा के
वेदना अपनी सगी है।

वस्तु कोई है न इच्छित ज्ञात मुझको दैव्य मेरा,
लुप्त है जो लब्ध उसके हेतु क्यों हड्डी गलाएं।
है लिखा विधि में विधाता ने तमस का ही सबेरा,
तो बताओ इस दिवाली दीप फिर कैसे जलायें।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
बरसात
बरसात
surenderpal vaidya
सफर
सफर
Arti Bhadauria
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
हो....ली
हो....ली
Preeti Sharma Aseem
दोहा पंचक. . . .इश्क
दोहा पंचक. . . .इश्क
sushil sarna
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
काश - दीपक नील पदम्
काश - दीपक नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla 781
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
अरशद रसूल बदायूंनी
प्रेम सुधा
प्रेम सुधा
लक्ष्मी सिंह
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
-- धरती फटेगी जरूर --
-- धरती फटेगी जरूर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
31 जुलाई और दो सितारे (प्रेमचन्द, रफ़ी पर विशेष)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
Loading...