Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 1 min read

लापरवाह माली

बेशक !
जिस तरह
खिलना चाहिए
उस तरह
अब नहीं,
खिल रही
हैं कलियाँ ।
फूलों की
मधुर गंध
से वंचित हैं,
आज गलियाँ।
इसलिए-नहीं
कि-बाग में
कोई माली
नहीं है,बल्कि
इसलिए-कि,
माली,माली की
तरह नहीं है ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी
कवि एवं शिक्षक ।

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 1225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
कहते हैं कि मृत्यु चुपचाप आती है। बेख़बर। वह चुपके से आती है
Dr Tabassum Jahan
चौपई /जयकारी छंद
चौपई /जयकारी छंद
Subhash Singhai
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"इन्तहा"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
उसकी गली तक
उसकी गली तक
Vishal babu (vishu)
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
3154.*पूर्णिका*
3154.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
Ravi Prakash
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
■ मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू।
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा
Mukesh Kumar Sonkar
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
Loading...