Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2022 · 2 min read

लाडली की पुकार!

सिर पर जब तक पापा का साया,
बिन माँगे ही सब कुछ मैंने पाया।
वटवृक्ष सहारे कोमल लघु बेल,
आश्रिता बस मगन अपने खेल।

वे थे तो न चिंता, न कोई अवसाद,
पितु छत्र तले छिपे खिले आह्लाद।
पापा के कंधे चढ़ देखे कितने मेले
बाँहों में दुबक भूले सकल झमेले।

संघर्ष में पितृगण ढल जाते ढाल,
बचाव सतत करते स्वयं निढाल।
पुत्री हित काज चाहे गात न शक्ति
प्राण बसे तनया में ऐसी आसक्ति

वात्सल्य सबसे मिला जो अधिक,
पुत्री से अति स्नेह है अनुवांशिक।
सर्वविदित है पिता-सुता का नाता,
अनन्य अनुपम अप्रतिम कहलाता।

थर-थर थर्राता जहाँ सारा परिवार,
लुटाते मुझपर भरपूर प्यार-दुलार।
उनसे अपनी मनवा न पाए कोई,
मानी मेरी कही चाहे जागे-सोई।

कलम पकड़ाई जब से हाथ में,
धार लगाई बन खड्ग साथ में।
तोल-मोल बोलना सिखलाया,
मितव्यय वर्णों का भेद सुझाया।

एक आवाज़ मेरी का ये परिणाम
दौड़े आते छोड़ सभी काम-धाम
उपलब्धि मेरी तो बाँटते वे पतीसे
बतियाते सुख-दुख सखियों जैसे

समझाया समझना पीड़ित का दर्द,
झुलसें हों दिन चाहे रातें हों सर्द।
सहानुभूति से जुड़े मनुज के तत्त्व,
समानुभूत उनके तत्त्वों का सत्त्व।

अम्बर तक खुशियाँ तुमसे पापा
बचपन छिपा सहसा चढ़ा बुढ़ापा
हँसी छिनी मुख छाई गहन उदासी
क्या प्राण क्या तन हर रोम उपासी

तुमसे मेरा अस्तित्व अभिमानी,
फिर कैसे न पीड़ा मेरी पहचानी।
चले पड़े दूर सितारों की दुनिया,
कहाँ ढूँढे तलाशे तुम्हरी मुनिया।

कुछ बतला जाते जाने से पहले,
तैयार हो बेटी अब दु:ख सह ले।
छोड़ा मँझधार खींच ली पतवार,
क्यों नहीं सुनी मेरी मान मनुहार।

किस हाल निज बेटी को धकेला,
घिरे रिश्ते-नाते पर लगे अकेला।
अटूट बंधन का धागा पहचाना,
तोड़ा तुमने जो जग ताना-बाना।

छ: माह लगे युग सदियाँ बीतीं,
माँ भी तुम बिन हारी-सी जीतीं।
उजड़े जन जिनके तुम रहे सहारे,
क्योंकर तुमने एक क्षण में बिसारे।

याद करूँ तुम्हें पड़ते दिखलाई,
अब नहीं भाग्य में वह परछाई।
भागूँ पकड़ूँ हरदम यादों के साये,
आँख भरीं हाथ खाली रह जाए।

बहुत छका लिया तुमने बाबुल,
दरस दिखाओ यह धी आकुल।
थम जाए अविरल अश्रु की धारा,
पापा! सुनो, लाड़ली ने है पुकारा।

-डॉ॰ आरती ‘लोकेश’
-दुबई, यू.ए.ई.
-arti.goel@hotmail.com

5 Likes · 2 Comments · 558 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Arti 'Lokesh' Goel
View all
You may also like:
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
कहानी :#सम्मान
कहानी :#सम्मान
Usha Sharma
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
दिल की धड़कन भी तुम सदा भी हो । हो मेरे साथ तुम जुदा भी हो ।
Neelam Sharma
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
डॉ. दीपक मेवाती
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐प्रेम कौतुक-290💐
💐प्रेम कौतुक-290💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देशभक्त
देशभक्त
Shekhar Chandra Mitra
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
कोई तो है
कोई तो है
ruby kumari
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
दूर कहीं जब मीत पुकारे
दूर कहीं जब मीत पुकारे
Mahesh Tiwari 'Ayan'
रवि प्रकाश की दो कुंडलियाँ
रवि प्रकाश की दो कुंडलियाँ
Ravi Prakash
Loading...