Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2024 · 1 min read

“लाजिमी”

“लाजिमी”
कार्यपालिका हो
विधायिका हो
चाहे न्यायपालिका हो
जनता ही सबकी स्वामिनी है,
आईने के सम्मुख
सबका खड़े होना
आज बेहद लाजिमी है।

1 Like · 1 Comment · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
*Author प्रणय प्रभात*
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
कवि की लेखनी
कवि की लेखनी
Shyam Sundar Subramanian
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
*नव संवत्सर आया नभ में, वायु गीत है गाती ( मुक्तक )*
*नव संवत्सर आया नभ में, वायु गीत है गाती ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
"खिड़की"
Dr. Kishan tandon kranti
नैन
नैन
TARAN VERMA
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
संगीत........... जीवन हैं
संगीत........... जीवन हैं
Neeraj Agarwal
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
यदि सत्य बोलने के लिए राजा हरिश्चंद्र को याद किया जाता है
शेखर सिंह
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
Loading...