Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

“लाचार मैं या गुब्बारे वाला”

चढ़ाई वो रामबाजार की
था लगा चढ़ने मैं भी
गुब्बारे वाला था एक देखा
इंच तीन हो जितनी रेखा
गुब्बारा बढ़ा था लाया उसने
जो देखा न था पहले किसी ने
भीड़ जमकर लगी थी वंहा
बैठा था गुब्बारे वाला जंहा
देखकर गुब्बारे का आकार
लेने को मै भी था तैयार
आती जब तक मेरी बारी
सोच रहा था उसकी लाचारी
हो जाता होगा गुज़ारा बेचकर
खा पाता होगा कुटुम्भ पेटभर
आई जैसे ही मेरी बारी
पूछ ली पहले उसकी लाचारी
भाई? बन जाता है इससे कुछ
मानते तुम जिसे सब कुछ
जो जवाब था उसका आया
अंधकार सा था आगे छाया
लाता हूँ घर से हजार
भर देता सारा बाजार
कोशिश इतनी ही करता हूं
थैला खाली ही करता हूं
आठ से आठ बजाता हूं
दो के दस ही कमाता हूं
सुनकर था मै लगा सोचने
पाँच हजार आता दिन मे
कर रहा था मै जो ख्याल
बता रहा हूँ अपना हाल
करता मै किस बात की अक्कड़
मुझसे तो बेहतर यह अनपड़
शुद्ध लाभ यह यदि कमाये
लागत का आधा कंही न जाये
मास का कई बनता हजार
बहुत खूब है यह व्यापार
लगा था मुझे वो लाचार
था उसका ही यह संसार।।
.
………संजय कुमार “संजू”

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
होकर मजबूर हमको यार
होकर मजबूर हमको यार
gurudeenverma198
पहली बैठक
पहली बैठक "पटना" में
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"अवध के राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
डिग्रियां तो मात्र आपके शैक्षिक खर्चों की रसीद मात्र हैं ,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
⚘️🌾Movement my botany⚘️🌾
⚘️🌾Movement my botany⚘️🌾
Ms.Ankit Halke jha
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*मारीच (कुंडलिया)*
*मारीच (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये कटेगा
ये कटेगा
शेखर सिंह
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
बैठकर अब कोई आपकी कहानियाँ नहीं सुनेगा
DrLakshman Jha Parimal
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
दिल का रोग
दिल का रोग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...