Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 1 min read

लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया

लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अच्छा हुआ कि कश्ती ने तेवर समझ लिया

जिस दाम जिसने चाहा उसी दाम में रखा
मुझको किसी ग़रीब का ज़ेवर समझ लिया

आता रहा हूँ काम मफ़ादाद के बिना
मुझको सभी ने अपना मुक़द्दर समझ लिया

मैं चाहता हूँ छुट्टियाँ कुछ तो इन्हें मिले
इन उलझनों ने मुझको तो दफ़्तर समझ लिया

कुछ इसलिए भी क़ाफ़िला लुटता चला गया
इक राहज़न को अपना ही रहबर समझ लिया
~अंसार एटवी

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#दीनता_की_कहानी_कहूँ_और_क्या....!!
#दीनता_की_कहानी_कहूँ_और_क्या....!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
Sidhartha Mishra
💐 Prodigy Love-29💐
💐 Prodigy Love-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kumar lalit
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
हसरतें पाल लो, चाहे जितनी, कोई बंदिश थोड़े है,
Mahender Singh
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
रंग में डूबने से भी नहीं चढ़ा रंग,
Buddha Prakash
जलती बाती प्रेम की,
जलती बाती प्रेम की,
sushil sarna
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
रखना जीवन में सदा, सुंदर दृष्टा-भाव (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बचपन
बचपन
Vedha Singh
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
VINOD CHAUHAN
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
गुलामी छोड़ दअ
गुलामी छोड़ दअ
Shekhar Chandra Mitra
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
मनोहन
मनोहन
Seema gupta,Alwar
*****राम नाम*****
*****राम नाम*****
Kavita Chouhan
गुरुवर
गुरुवर
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
#आज_का_गीत :-
#आज_का_गीत :-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...