Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

*** लम्हा…..!!! ***

“” कभी एक लम्हा ऐसा भी आता है…
जिसमें बीता हुआ कल नजर आता है…!
बस यादें ही रह जाती है, एक दृश्य बनकर…
याद करने के लिए…!
और…
वक्त सब कुछ लेकर गुजर जाता है…
दिन छोटा, रातें भी छोटी लगती है…!
कुछ अहसास होता है, मुझे…
समय, जैसे जिंदगी से भी…,
तेज भाग रही है…!
और…
एक आवश्यकता की तालाश में…
बस हर वक्त, मैं…
कुछ अनुमान लगाता रहा…!
अब केवल अनुभव ही एक…
मेरा साथ रहा…!
अब केवल अनुभव ही एक…
मेरा साथ रहा…!! “”

***************∆∆∆*************

Language: Hindi
1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल के अहसास बया होते है अगर
दिल के अहसास बया होते है अगर
Swami Ganganiya
■ शुभ देवोत्थान
■ शुभ देवोत्थान
*Author प्रणय प्रभात*
it's a generation of the tired and fluent in silence.
it's a generation of the tired and fluent in silence.
पूर्वार्थ
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"उदास सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यासा मन
प्यासा मन
नेताम आर सी
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
शांति तुम आ गई
शांति तुम आ गई
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
तन्हा
तन्हा
अमित मिश्र
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
नई जगह ढूँढ लो
नई जगह ढूँढ लो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
Phool gufran
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
2327.पूर्णिका
2327.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दान देने के पश्चात उसका गान  ,  दान की महत्ता को कम ही नहीं
दान देने के पश्चात उसका गान , दान की महत्ता को कम ही नहीं
Seema Verma
राहुल की अंतरात्मा
राहुल की अंतरात्मा
Ghanshyam Poddar
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
प्रथम शैलपुत्री
प्रथम शैलपुत्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
दोहे ( किसान के )
दोहे ( किसान के )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
VEDANTA PATEL
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
लज्जा
लज्जा
Shekhar Chandra Mitra
1
1
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...