Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी

लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी
ज़िंदगी शमा की सूरत हो ख़ुदाया मेरी!
दूर दुनिया का मेरे दम से अंधेरा हो जाए!
हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए!
हो मेरे दम से यूं ही मेरे वतन की ज़ीनत
जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत
ज़िंदगी हो मेरी परवाने की सूरत या-रब
इल्म की शमा से हो मुझ को मोहब्बत या-रब
हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना
दर्द-मंदों से ज़ईफ़ों से मोहब्बत करना।
मेरे अल्लाह! बुराई से बचाना मुझ को
नेक जो राह हो उस राह पे चलाना मुझ को।
अल्लामा इक़बाल

1 Like · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
shabina. Naaz
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
दोहा - चरित्र
दोहा - चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भागमभाग( हिंदी गजल)
भागमभाग( हिंदी गजल)
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-59💐
💐अज्ञात के प्रति-59💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुद की अगर खुद से
खुद की अगर खुद से
Dr fauzia Naseem shad
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नारी बिन नर अधूरा✍️
नारी बिन नर अधूरा✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
"वादा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रिश्ते
रिश्ते
Shutisha Rajput
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
घुमंतू की कविता #1
घुमंतू की कविता #1
Rajeev Dutta
2791. *पूर्णिका*
2791. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
Dr MusafiR BaithA
कहां गए वे शायर?
कहां गए वे शायर?
Shekhar Chandra Mitra
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
Loading...