Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2016 · 1 min read

लड़कियों के प्यार से डरता हूँ मैं

लड़कियों के प्यार से डरता हूँ मैं !
आज की तलवार से डरता हूँ मैं !!

चाहता हूँ बोल दूँ उसको खुदा ,
किन्तु इस सत्कार से डरता हूँ मैं !!

संगिनी उसको बनाना चाहता ,
पर समय की मार से डरता हूँ मैं !!

पल मे रिश्तों को ये पीछे छोड़ता ,
वक्त की रफ्तार से डरता हूँ मैं !!

पीछा करता जो बसन्तों का सदा ,
आह ! उस पतझार से डरता हूँ मैं !!

ये भले हों शोख औ मनहर नदी ,
किन्तु इनकी धार से डरता हूँ मै !!

जो न जुगनू की तरह झिलमिल करे ,
ऐसे हर अंधकार से डरता हूँ मै !!

जो न जुगनू की तरह हंसकर मिले ,
उस गुले-गुलजार से डरता हूँ मैं !!

09200573071 8871887126

292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जब कोई दिल से जाता है
जब कोई दिल से जाता है
Sangeeta Beniwal
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
Lokesh Sharma
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
जख्मो से भी हमारा रिश्ता इस तरह पुराना था
कवि दीपक बवेजा
चिन्तन का आकाश
चिन्तन का आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
बहुत सी बातें है, जो लड़के अपने घरवालों को स्पष्ट रूप से कभी
पूर्वार्थ
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जागता हूँ मैं दीवाना, यादों के संग तेरे,
जागता हूँ मैं दीवाना, यादों के संग तेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*प्रणय प्रभात*
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
इसकी वजह हो तुम, खता मेरी नहीं
इसकी वजह हो तुम, खता मेरी नहीं
gurudeenverma198
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
18--- 🌸दवाब 🌸
18--- 🌸दवाब 🌸
Mahima shukla
Loading...