Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

लघुकथा- उम्मीद की किरण

वकील वर्मा जी ने अपने चपरासी से कहा – रामू दादा, वो देखो बाहर एक बूढ़ा आदमी बैठा है उसे बुला लाओ।

थोड़ी देर में ही वह बूढ़ा आदमी वकील साहब के कक्ष में था।

वकील साहब बोले -दादा जी, आप बहुत दिनों से मेरे आफिस के सामने बैठे दिखाई देते हो, क्या बात है?
आपकी कोई समस्या हो तो बताओ, मुझे अपना ही समझो.

तब वह बूढ़ा बोला -साहब जी, मेरा नाम धुम्मन है, पास के ही गांव का निवासी हूं। कुछ दिन पहले कोरोना में मेरी बीबी और एक बेटी की मौत हो गई, किसी ने बताया कि कोरोना पीड़ित को सरकार राहत -राशि देगी
इसलिए जज साहब से यह बोलने के लिए रोज आता हूं कि मुझे राहत राशि दिलाने की जगह मेरे जो दो बच्चे और हैं उनकी स्कूल फीस माफ़ करा दें।
लेकिन जज साहब से मुलाक़ात ही नही हो रही है।

तब वकील साहब बोले -दादा जी, आपके गांव में सरकारी स्कूल होगा वहाँ लिखाओ अपने बच्चो के नाम,
वहाँ तुम्हारे बच्चों को भोजन, कपड़े,किताबें और बजीफा भी मिलेगा, जब सभी सुविधाएँ सरकारी स्कूल में हैं तो प्राइवेट स्कूलों के लिए क्यों भागते हो,
दादा जी, मैं ख़ुद वकील बना तो सरकारी स्कूल मैं ही पढ़कर बना हूं।

धुम्मन की आँखों मैं आशाओं के चराग जल उठे, वह चल दिया अपने गांव की ओर।

वकील साहब को वह कभी नज़र नही आया।

3 Likes · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Akib Javed
View all
You may also like:
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बेजुबानों से प्रेम
बेजुबानों से प्रेम
Sonam Puneet Dubey
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
गरीबों की जिंदगी
गरीबों की जिंदगी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"कथनी-करनी"
Dr. Kishan tandon kranti
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
*रोज बदलते अफसर-नेता, पद-पदवी-सरकार (गीत)*
Ravi Prakash
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
नारी की स्वतंत्रता
नारी की स्वतंत्रता
SURYA PRAKASH SHARMA
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
ऐसा तूफान उत्पन्न हुआ कि लो मैं फँस गई,
Sukoon
Loading...