Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

रै तमसा, तू कब बदलेगी…

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

रै तमसा,
तू कब बदलेगी,
कैसा तेरा यह रुप है,
किसने किया यह स्वरुप है।
हमें पता है,
तेरे इस हालात का,
तू जिम्मेदार नहीं,
ना ही तू कसूरवार है,
दोषी हैं, हम जन-जन,
कोई और नहीं,
बस हम,
तुम्हें देख कर,
कोसते हैं, तुमको,
खूद को नहीं समझा पाते,
आखिर तेरे इस हाल का,
असल जिम्मेदार कौन है।
रै तमसा,
तू वही तो है,
जो पूजी जाती है,
सदियों से,
तू पूज्यनीय भी है,
हम सबकी,
फिर भी हम सब मौन हैं,
रै तमसा,
हम जानते हैं,
फिर भी पूछ रहे,
आखिर तेरे इस,
दुर्दशा का,
असल जिम्मेदार कौन है।

25 जून 2018 की रचना व फ़ोटो

1 Like · 965 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मोक्ष
मोक्ष
Pratibha Pandey
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
पाँव
पाँव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
Er. Sanjay Shrivastava
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
It is that time in one's life,
It is that time in one's life,
पूर्वार्थ
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
*कभी नहीं पशुओं को मारो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ Rãthí
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कवि दीपक बवेजा
स्वाधीनता संग्राम
स्वाधीनता संग्राम
Prakash Chandra
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
3287.*पूर्णिका*
3287.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरी कलम
मेरी कलम
Dr.Priya Soni Khare
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
बहुत कीमती है दिल का सुकून
बहुत कीमती है दिल का सुकून
shabina. Naaz
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
जली आग में होलिका ,बचे भक्त प्रहलाद ।
Rajesh Kumar Kaurav
Loading...