Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा

कभी रेत को एक बर्तन से चुटकी चुटकी
ऐसे रिसने की माफिक
गिराया जाता था दूजे बर्तन में
कि दिन रात को निर्धारित करने का
एक समयमान निकल आए
एक घड़े के रीतने और दूसरे के भरने से
घड़ी बन

बचपन में मेरे
मेरा फूस की छप्पर वाला घर भी
बनता था घड़ी
छप्पर पर पड़ी सूरज की रौशनी की बदौलत
उसकी ओरियानी से बनती थी छाया आंगन में
इस छाया की एक रेखा से ही बादलहीन सुबह में
तय होता था मेरा स्कूल जाने का समय

कोई ढाई मील की दूरी घर से
अपने कच्चे पैरों पर तय कर
पकड़ता था स्कूल बस मैं
और फिर कोई आठ नौ किलोमीटर लांघ
पहुंचता था अपने स्कूल

घर से स्कूल जाने और लौटने के क्रम में
कम से कम चार घंटे का समय
व्यर्थ ही रीत जाना तय होता था हर दिन

रेत घड़ी जितना सटीक समय
भले ही न निकाल पाती थी मेरी वह छाया–घड़ी
मगर पारिवारिक आर्थिक फटेहाली के
उन छुटपन दिनों में
बिना हर्रे और फिटकरी लगे
समय से स्कूल पहुंच पाना मेरा
रंग चोखा हो जाना होता था

जीवन की हमारी हर घड़ी भले ही हो अनिश्चित
पर चलना होता है उसे हर हमेशा ही
और किसी न किसी घड़ी के सहारे ही
यह सहारे की घड़ी
खुद ब खुद रूपाकार ले लेती है
रेत घड़ी सी।

Language: Hindi
423 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
हाँ, ये आँखें अब तो सपनों में भी, सपनों से तौबा करती हैं।
Manisha Manjari
आओ चले अब बुद्ध की ओर
आओ चले अब बुद्ध की ओर
Buddha Prakash
3042.*पूर्णिका*
3042.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सीखा सब आकर यहीं, थोड़ा-थोड़ा ज्ञान (कुंडलिया)*
*सीखा सब आकर यहीं, थोड़ा-थोड़ा ज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्या करते हो?
क्या करते हो?
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
सुना है सकपने सच होते हैं-कविता
Shyam Pandey
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
कृषि पर्व वैशाखी....
कृषि पर्व वैशाखी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
Expectations
Expectations
पूर्वार्थ
दस्तूर ए जिंदगी
दस्तूर ए जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
■ सनातन सत्य...
■ सनातन सत्य...
*Author प्रणय प्रभात*
गिरगिट
गिरगिट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम दो अंजाने
हम दो अंजाने
Kavita Chouhan
Loading...