Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

घंटा हिलाने वाली कौमें

सहराओं में बादल बरसाकर
फसलें नहीं उगाया करती हैं!
सितारों से आगे जाकर अपनी
बस्तियां नहीं बनाया करती हैं!!
तुम्हें मालूम भी है भगतसिंह ने
क्या कहा था फांसी के तख्ते से!
घंटा हिलाने वाली कौमें कभी
दुनिया नहीं हिलाया करती हैं!!
इंक़लाब! ज़िंदाबाद!!

Language: Hindi
114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चांद ने सितारों से कहा,
चांद ने सितारों से कहा,
Radha jha
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
अनूप अम्बर
रमेशराज की कहमुकरियां
रमेशराज की कहमुकरियां
कवि रमेशराज
दारू की महिमा अवधी गीत
दारू की महिमा अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कबूतर (बाल कविता)*
*कबूतर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"आशिकी में"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
3034.*पूर्णिका*
3034.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
shabina. Naaz
सीने में जलन
सीने में जलन
Surinder blackpen
उफ़ ये बेटियाँ
उफ़ ये बेटियाँ
SHAMA PARVEEN
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
हो तेरी ज़िद
हो तेरी ज़िद
Dr fauzia Naseem shad
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
Loading...