Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 2 min read

रूह की अभिलाषा🙏

रूह की अभिलाषा🙏
**************
व़क्त गुज़ार रहे हैं दो रूह रूहानी
वंश देख परलोक से सुखी दुःखी

दम्भभरी बात पकड़ नादानी
धर्म कर्म नीति ना पहचानी

बेजान छोड़ दिया बचपन को
जिस मिट्टी में जन्म लिया खेल

खा पढ़ कुर्सी कठिनाई से पाया
अतीत विस्मृत हो बना घमण्डी

चका चौंध दुनियां की दौड़ में
भूल गया पूर्वज त्याग तपस्या

क्या सोच कष्ट उठाया इन्होंने
मेरी धरती मेरी खेतों की मांटी

धिक्कार दे बहुत कुछ कहती है
देख रहे खेतों को गरभू बैठा बाबा

खीर पूड़ी खा गोछी घर कराता
माँ पिता परिवार एक साथ बैठ

दाल भात सब्जी पकौड़ी खाता था
कनक पनीरी धानो की मंजरी

मक्के अरहर मसूर दलहन की फूलें
झोंके पवन हर दिशाएं पग हिलोरे

कोस रहें ये किन औलादों हाथ
छोड़ गए हमे पद घमण्डी वैभव

संपदा अंधी जो कर्म किया ना
भाई अंश को टुकड़े में बांटा

टुकड़े बट सही था अंश किसी के
आकर शोभा श्रृंगार उपज दानों

जीवन सबल बनाने कण मांटी
दुःख दर्द सहारा सकून गर्व पाता

पर हाथों की कठ पुतली बना
नाच नचा अपार कष्टों से भरा

कलेजा कट कट गिर रहा मांटी
वंश हाथों की सपना देख रहा

स्पर्श करो निज जन्म मांटी को
अनुभव होगा पुरखों की श्रम

पसीना रक्त हृदय का धड़कन
महशूस करो दर्द बेज़ुवा रुह का

माँ माटी ने कितनी बार बुलाया
सविनय आमंत्रण से कह रही थी

बांट खण्डित कर सौंप दे मुझे
आया बैठा समझ नहीं पाया

ये इसने वो उसने बात कही है
औरत सी उलझन बेतुक मुद्दा

बड़ा छोटा यह मैं तू हो क्या ?
धमकी अहंकारी चमक दिखा

इसने उसने मैं तू की भंवर चक्रवात
गुमनाम छिपा ऊषा लाली आंचल

छोड़ रहे तरकश के तीर ज़हरीले
छलनी हो रहे बचपन की रूहानी

वाणी तानों से क्या मिला है जग में
सिर्फ मनमुटाव नफरत इंझट पाता

चुभन पीड़ा पश्चताप भरे जगत में
ताना-बाना छोड़ कबीरा चल बसे

बड़ी यतन से झीनी झीनी बीनी
चदरिया ना इसे मैली करी जैसी
मिली थी तैसी छोड़ दी चदरिया

सपने आ रुह समझाती वंश को
जिम्मेदारी से कितना दूर भागोगे

मेरी स्वर्ग समाधि पर सूखी फूल
कब तक बरसाओगे क्या तृप्त ?
हो जाऊंगा सुगंधहीन पुष्पों से

चंचल दम्भी मन स्थिर करों यहां
जग रीत प्रीत समझ शीतल हो

दुनियांदारी जबावदेही मत भूलो
ऋण जन्म का चुका छोड़ सभी

एक दिन अनजान दुनियां मेंआना
होगा समझ इसे सोच विचार करो

संपदा वैभव नश्वर आनी जानी
समझ इसे मत करों अनजानी

धर्म कर्म सत्य न्याय अमर ज्ञानी
प्रेरणामयी जीवन जीव जगत में

चार कंधो का लिए सहारा
जग छोड़ आना तो तय है

तन मत कर मैली जरा भी
साफ छोड़ चल रुहनगरिया

************************

तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
B S MAURYA
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उम्मींदें तेरी हमसे
उम्मींदें तेरी हमसे
Dr fauzia Naseem shad
यह मेरी इच्छा है
यह मेरी इच्छा है
gurudeenverma198
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
Fool's Paradise
Fool's Paradise
Shekhar Chandra Mitra
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
राम-हाथ सब सौंप कर, सुगम बना लो राह।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
■ सबसे ज़रूरी।
■ सबसे ज़रूरी।
*Author प्रणय प्रभात*
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*विभीषण (कुंडलिया)*
*विभीषण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी
सत्य कुमार प्रेमी
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
बेबसी!
बेबसी!
कविता झा ‘गीत’
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सपनों में खो जाते अक्सर
सपनों में खो जाते अक्सर
Dr Archana Gupta
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
बन रहा भव्य मंदिर कौशल में राम लला भी आयेंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भाप बना पानी सागर से
भाप बना पानी सागर से
AJAY AMITABH SUMAN
अपने आप से भी नाराज रहने की कोई वजह होती है,
अपने आप से भी नाराज रहने की कोई वजह होती है,
goutam shaw
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
जीवन जीते रहने के लिए है,
जीवन जीते रहने के लिए है,
Prof Neelam Sangwan
Loading...