Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

रूह का हिस्सा

आंख के आंसू है……दरिया नहीं
जो सूख जायेगा

तुम उतार फेंको मुहब्बत का लिबास

ये मेरी रूह का हिस्सा है ………
मेरे संग जायेगा

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
159 Views
You may also like:
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu hai na'
श्रृंगार करें मां दुल्हन सी, ऐसा अप्रतिम अपरूप लिए
Er.Navaneet R Shandily
पिता की अस्थिया
Umender kumar
मजदूर
Anamika Singh
बदला
शिव प्रताप लोधी
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
*न रखना लोभ जीवन में, समझ लो देह माया है...
Ravi Prakash
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
परवाना ।
Anil Mishra Prahari
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बदरिया
Dhirendra Panchal
हे देश के जवानों !
Buddha Prakash
आपकी स्वतन्त्रता
Dr fauzia Naseem shad
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
किसी की आरजू में।
Taj Mohammad
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
JHIJHIYA DANCE IS A FOLK DANCE OF YADAV COMMUNITY
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"फल"
Dushyant Kumar
🌺🌻प्रेमस्य आनन्द: प्रतिक्षणं वर्धमानम्🌻🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इतना मत चाहो
सूर्यकांत द्विवेदी
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक अगर तुम मुझको
gurudeenverma198
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
भगतसिंह रिटर्न्स
Shekhar Chandra Mitra
" जी हुजूरी का नशा"
Dr Meenu Poonia
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
Loading...