Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

रूह का हिस्सा

आंख के आंसू है……दरिया नहीं
जो सूख जायेगा

तुम उतार फेंको मुहब्बत का लिबास

ये मेरी रूह का हिस्सा है ………
मेरे संग जायेगा

Language: Hindi
253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
चेहरे के पीछे चेहरा और उस चेहरे पर भी नकाब है।
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3024.*पूर्णिका*
3024.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
कौन ?
कौन ?
साहिल
विपक्ष की लापरवाही
विपक्ष की लापरवाही
Shekhar Chandra Mitra
151…. सहयात्री (राधेश्यामी छंद)
151…. सहयात्री (राधेश्यामी छंद)
Rambali Mishra
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
मैं बेटी हूँ
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
*ये बिल्कुल मेरी मां जैसी है*
Shashi kala vyas
लोगों के अल्फाज़ ,
लोगों के अल्फाज़ ,
Buddha Prakash
मुस्कुराकर देखिए /
मुस्कुराकर देखिए /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माना के गुनाहगार बहुत हू
माना के गुनाहगार बहुत हू
shabina. Naaz
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
*कभी नहीं देखा है जिसको, उसकी ही छवि भाती है 【हिंदी गजल/गीति
*कभी नहीं देखा है जिसको, उसकी ही छवि भाती है 【हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
जय श्री राम
जय श्री राम
आर.एस. 'प्रीतम'
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
Loading...