Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

रूप तुम्हारा, सच्चा सोना

रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
देखो इसको तुम ना खोना
रोज़ मुझे, बेचैन करे तू
जाने क्या है, जादू-टोना
जज़्बात रखूँ, मैं तो काबू
आय मुझे ना, रोना-धोना
वक़्त बुरा कैसा भी आए
काँटे यार, कभी ना बोना
काम हमेशा जो भी आए
हीरा है वो, बाबू सोना
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कहां से लाऊं शब्द वो
कहां से लाऊं शब्द वो
Seema gupta,Alwar
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शिक्षा ही जीवन है
शिक्षा ही जीवन है
SHAMA PARVEEN
वादा
वादा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
निभाना नही आया
निभाना नही आया
Anil chobisa
2999.*पूर्णिका*
2999.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ नमी अपने
कुछ नमी अपने
Dr fauzia Naseem shad
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
"तू मिल जाए तो"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदले नजरिया समाज का
बदले नजरिया समाज का
Dr. Kishan tandon kranti
नाटक नौटंकी
नाटक नौटंकी
surenderpal vaidya
तन्हाई को जश्न दे चुका,
तन्हाई को जश्न दे चुका,
goutam shaw
मनमर्जी की जिंदगी,
मनमर्जी की जिंदगी,
sushil sarna
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
बिल्कुल, बच्चों के सम्मान और आत्मविश्वास का ध्यान रखना बहुत
बिल्कुल, बच्चों के सम्मान और आत्मविश्वास का ध्यान रखना बहुत
पूर्वार्थ
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
जंगल ये जंगल
जंगल ये जंगल
Dr. Mulla Adam Ali
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
आस्था
आस्था
Adha Deshwal
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...