Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

स्त्री एक कविता है

रूप अनेक अनजान राहों मे
जो बार-बार है बदलता ।
चंचल मन मोर- सा चंचल विचार ,
बहती हुई सी सरिता।।

जीवन है वह नाम इसी का,
विचारों का ताना-बाना।
सुलगती दिया सिखा -सी,
फिर भी ममतामई खजाना।।

आचार विचार में सौम्य सुलभ,
न लालच सिर्फ मोहक।
लाज- लज्जा, लालन-पालन ,
कर निडर हो बेखौफ।।

दुख शह खुद करती त्याग,
निछावर सर्वस्व अपना ।
अपनत्व की भावना मे अपने,
उन्नति प्रगति करें देखे सपना।।

सतपाल चौहान।

Language: Hindi
1 Like · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
तुम भी तो आजकल हमको चाहते हो
Madhuyanka Raj
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
सही पंथ पर चले जो
सही पंथ पर चले जो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज जब वाद सब सुलझने लगे...
आज जब वाद सब सुलझने लगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऊपर बने रिश्ते
ऊपर बने रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
माया मोह के दलदल से
माया मोह के दलदल से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
कुछ लोग हेलमेट उतारे बिना
कुछ लोग हेलमेट उतारे बिना
*Author प्रणय प्रभात*
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
हाँ, मेरा यह खत
हाँ, मेरा यह खत
gurudeenverma198
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
"आग्रह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2938.*पूर्णिका*
2938.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
Rj Anand Prajapati
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
यहां लोग सच बोलने का दावा तो सीना ठोक कर करते हैं...
यहां लोग सच बोलने का दावा तो सीना ठोक कर करते हैं...
Umender kumar
रोमांटिक रिबेल शायर
रोमांटिक रिबेल शायर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...