Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2016 · 1 min read

रुबाइ गज़ल गुनगुनाने की रातें —– गज़ल

—-
रुबाइ गज़ल गुनगुनाने की रातें
उसे हाल दिल का सुनाने की रातें

वो छूना छुआना नज़र को बचा कर
शरारत अदायें दिखाने की रातें

रुहानी मिलन वो जवानी का जज़्बा
मुहब्बत मे हँसने रुलाने की रातें

न चौपाल पीपल बचे गांव मे अब
कहां रोज़ मह्फिल सजाने की रातें

अगर रूठ जाये तो मनुहार करना
उसे याद कसमे दिलाने की रातें

कुछ उलझी लटें गेसुओं का वो सावन
रहीं प्यार मे भीग जाने की रातें

कई फलसफे ज़िन्दगी जो न भूली
कटी छुप के आंसू बहाने की रातें

जो सपने सिरहाने रख कर थे सोये
अब आई हैं उनको उठाने की रातें

खिलाना पिलाना रिझाना गया सब
गयीं बीत यूं ही मनाने की रातें

1 Comment · 271 Views
You may also like:
✍️इश्क़ और जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Air Force Day
Aruna Dogra Sharma
मंजिल की धुन
Seema 'Tu hai na'
एक अलबेला राजू ( हास्य कलाकार स्व राजू श्रीवास्तव के...
ओनिका सेतिया 'अनु '
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
मानकर जिसको अपनी खुशी
gurudeenverma198
आस
लक्ष्मी सिंह
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
ग़ज़ल- मेरे दिल की चाहतों ने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
"तुम हक़ीक़त हो ख़्वाब हो या लिखी हुई कोई ख़ुबसूरत...
Lohit Tamta
सच्चाई लक्ष्मण रेखा की
AJAY AMITABH SUMAN
"एक अत्याचार"
पंकज कुमार कर्ण
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
*प्रणय प्रभात*
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
*दीपों का त्यौहार है (गीत)*
Ravi Prakash
हसद
Alok Saxena
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
!! समय का महत्व !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वो_हमे_हम उन्हें_ याद _आते _रहेंगे
कृष्णकांत गुर्जर
बेबस-मन
विजय कुमार नामदेव
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
उसकी मुस्कराहट के , कायल हुए थे हम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
Loading...