Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

रिहाई – ग़ज़ल

” रिहाई ”

नफ़रतों को….. क़ैद से रिहाई दे रहा है ।
शख़्स वही मुहब्बत की दुहाई दे रहा है ।।

किये थे वादे…… साथ रहने के जिसने ।
वही ताउम्र की……….. जुदाई दे रहा है ।।

आँख में……. ख़ुशी के आंसू लिए कोई ।
बाप अपनी बेटी को….. बिदाई दे रहा है ।।

उसकी अस्मत को रखा था मेहफ़ूज़ मैंने ।
तोहफ़े में वो ही मुझे….. रुसवाई दे रहा है ।।

©डॉ वासिफ़ काज़ी , इंदौर
©काज़ी की कलम

3 Likes · 606 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Colours of Life!
Colours of Life!
R. H. SRIDEVI
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
ममत्व की माँ
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
पहचान
पहचान
Seema gupta,Alwar
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
पिता
पिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
मेरे अधरों पर जो कहानी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
*मौन की चुभन*
*मौन की चुभन*
Krishna Manshi
कब मैंने चाहा सजन
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
आ लौट के आजा टंट्या भील
आ लौट के आजा टंट्या भील
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
प्यार के ढाई अक्षर
प्यार के ढाई अक्षर
Juhi Grover
तन्हाई को तोड़ कर,
तन्हाई को तोड़ कर,
sushil sarna
स्वयं के हित की भलाई
स्वयं के हित की भलाई
Paras Nath Jha
राशिफल
राशिफल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुदबुदा कर तो देखो
बुदबुदा कर तो देखो
Mahender Singh
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
कवि रमेशराज
"खामोशी की गहराईयों में"
Pushpraj Anant
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
The Sweet 16s
The Sweet 16s
Natasha Stephen
Loading...