Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

रिश्तों में वक्त नहीं है

रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है,अब उम्मीद नहीं दिखती।
मन से जुड़ाव बनेगा मजबूत,बस रिश्ते है तो जी रहे हैं साथ।
रिश्ते के साए में,जसब्बती बैठक अब काफी दिनों के सफर में।
कभी-कभी जब इल्म लगता है,तो बैठ जाते हैं रिश्ते के नाम पर।
आज कल के लोगों के बनाए रिश्ते,सिर्फ दिखावे के लिए हैं।
इन रिश्तों में कोई प्यार नहीं है,न ही कोई विश्वास है।
ये रिश्ते सिर्फ एक नाटक हैं,जो कुछ दिनों के लिए चलता है।
फिर ये रिश्ते टूट जाते हैं,और लोग अपने-अपने रास्ते जाते हैं।

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
संवेदना सहज भाव है रखती ।
संवेदना सहज भाव है रखती ।
Buddha Prakash
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
Ranjeet kumar patre
Bundeli Doha-Anmane
Bundeli Doha-Anmane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
You're going to realize one day :
You're going to realize one day :
पूर्वार्थ
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
gurudeenverma198
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
*सहायता प्राप्त विद्यालय : हानि और लाभ*
Ravi Prakash
🙅आज का विज्ञापन🙅
🙅आज का विज्ञापन🙅
*प्रणय प्रभात*
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खूबसूरती
खूबसूरती
Mangilal 713
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
3495.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3495.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...