Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।

रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
एक दूसरे का मान करें, रब-सी शान बनेगी।।

आर.एस. ‘प्रीतम’

429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
"लिख और दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
कुछ लिखूँ.....!!!
कुछ लिखूँ.....!!!
Kanchan Khanna
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
Karuna Goswami
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मुस्कान
मुस्कान
नवीन जोशी 'नवल'
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
3087.*पूर्णिका*
3087.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
जय जय भोलेनाथ की, जय जय शम्भूनाथ की
gurudeenverma198
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
😢आतंकी हमला😢
😢आतंकी हमला😢
*Author प्रणय प्रभात*
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
*आत्मविश्वास*
*आत्मविश्वास*
Ritu Asooja
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
कुछ नमी
कुछ नमी
Dr fauzia Naseem shad
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
प्राप्ति
प्राप्ति
Dr.Pratibha Prakash
तुम नादानं थे वक्त की,
तुम नादानं थे वक्त की,
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*सूने पेड़ हुए पतझड़ से, उपवन खाली-खाली (गीत)*
*सूने पेड़ हुए पतझड़ से, उपवन खाली-खाली (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...