Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे

रिश्तों को साधने में बहुत टूटते रहे
गाहे-बगाहे सब ही मुझे लूटते रहे

महावीर उत्तरांचली

1 Like · 71 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali

You may also like:
बेटी की बिदाई
बेटी की बिदाई
Naresh Sagar
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
DrLakshman Jha Parimal
रामचरितमानस (मुक्तक)
रामचरितमानस (मुक्तक)
नीरज कुमार ' सरल'
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
Rajesh vyas
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
Satpallm1978 Chauhan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
देर तक मैंने
देर तक मैंने
Dr fauzia Naseem shad
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
gurudeenverma198
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
मृत्यु या साजिश...?
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
समय से पहले
समय से पहले
अंजनीत निज्जर
💐प्रेम कौतुक-275💐
💐प्रेम कौतुक-275💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
=*बुराई का अन्त*=
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Mai apni wasiyat tere nam kar baithi
Sakshi Tripathi
■ कटाक्ष / प्रत्यक्ष नहीं परोक्ष
■ कटाक्ष / प्रत्यक्ष नहीं परोक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
रेलगाड़ी
रेलगाड़ी
श्री रमण 'श्रीपद्'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
कोरे कागज पर...
कोरे कागज पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जियो तो ऐसे जियो
जियो तो ऐसे जियो
Shekhar Chandra Mitra
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
धारा छंद 29 मात्रा , मापनी मुक्त मात्रिक छंद , 15 - 14 , यति गाल , पदांत गा
Subhash Singhai
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
Satish Srijan
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
स्वस्थ तन
स्वस्थ तन
Sandeep Pande
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mayank Kumar
Loading...